झंडे को लेकर बवाल, जलालाबाद में प्रदर्शन, तालिबान ने बरसाईं गोलियां

झंडे को लेकर बवाल, जलालाबाद में प्रदर्शन, तालिबान ने बरसाईं गोलियां

पूरी दुनिया को उम्मीद है की अफगानिस्तान में अंतरिम सरकार का गठन हो, शांति क़याम हो लेकिन ताजा घटना क्रम को देखते हुए लोगों की उम्मीदों को झटका लगा है यह बवाल हुआ एक यहां पर लोगों द्वारा अफगानिस्तान का राष्ट्रीय झंडे के दफ्तरों पर लगाए रखने की मांग की जा रही थी, इसी को लेकर हो रहे प्रदर्शन में सड़क पर भीड़ इकट्ठा हुई. और इन्हें तीतर-बीतर करने के लिए तालिबान ने लोगों पर फायरिंग कर दी.हम आपको दिखा रहे है ऐसी कुछ तस्वीरें जिनमे आप देख सकते है किस तरह से यहाँ भीड़ को तैयार भीतर करने के लिए गोलिया चलाई जा रही है अफगानिस्तान को बचाने के लिए बनाए गए फ्रंट नॉर्दन अलायंस ने तालिबान के खिलाफ जंग छेड़ दी है। तालिबानी हुकूमत के बीच पंजशीर घाटी में नॉर्दन अलायंस का झंडा फहराया गया है। 2001 के बाद पहली बार ऐसा हुआ है। ऐसी खबरें हैं कि तालिबान से बचने के लिए जो अफगानी सैनिक छिप गए थे वे अब पंजशीर पहुंचे रहे हैं। ये सैनिक दिवंगत अफगानी पॉलिटिशियन अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद की अपील पर पंजशीर में इकट्ठे हो रहे हैं।तालिबान को कई जगह आम जनता का भी विरोध झेलना पड़ रहा है। जलालाबाद में ऐसी ही घटना सामने आई है। यहां लोगों ने तालिबानी हुकूमत के बीच अफगानिस्तान का झंडा लगा दिया, जिसे तालिबान ने हटाकर अपना झंडा लगाने की कोशिश की। इस दौरान लोगों की तालिबानियों से झड़प हो गई और लोगों को डराने के लिए तालिबानियों से फायरिंग कर दी, जिसमें एक व्यक्ति के मारे जाने की खबर है। जलालाबाद में लोग अफगानिस्तान का झंडा लेकर सड़कों पर उतर आए हैं। वे मांग कर रहे हैं कि अफगानिस्तान के मौजूदा झंडे को ही राष्ट्रीय ध्वज बनाए रखा जाए। इससे पहले मंगलवार को पाकिस्तान की सीमा से लगे खोस्त प्रांत में भी लोगों ने अफगानी झंडा लेकर प्रदर्शन किया था।